एनीमिया के प्रकार, कारण, लक्षण और इलाज – Anemia in Hindi

Table of Contents

एनीमिया (खून की कमी या रक्ताल्पता) क्या है? – What Is Anemia in Hindi?

एनीमिया (जिसे खून की कमी या रक्ताल्पता भी कहा जाता है) एक ऐसी स्थिति है जिसमें रक्त में स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं (RBCs) या हीमोग्लोबिन (hemoglobin) की कुल मात्रा में कमी होती है| लाल रक्त कोशिकाएं (RBCs) आपके शरीर के सभी ऊतकों में ऑक्सीजन ले जाती हैं, इसलिए इनकी कमी से रक्त की ऑक्सीजन ले जाने की कम क्षमता का संकेत मिलता है|

एनीमिया के अधिकांश लक्षण शरीर के महत्वपूर्ण ऊतकों और अंगों को ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी के कारण होते हैं|

इस स्थिति को नियमित रक्त परीक्षण में कम हीमोग्लोबिन के रूप में सूचित किया जाता है| हीमोग्लोबिन आपकी लाल रक्त कोशिकाओं में मौजूद मुख्य प्रोटीन है जो फेफड़ों से ऑक्सीजन को शरीर के सभी ऊतकों तक पहुंचाता है|

पुरुषों में हीमोग्लोबिन का स्तर 13 से 14 ग्राम/100 मिली से कम और महिलाओं में हीमोग्लोबिन का स्तर 12 से 13 ग्राम/100 मिली से कम होना एनीमिया (रक्ताल्पता या खून की कमी) के रूप में परिभाषित किया गया है|

अर्थात, यदि आपको एनीमिया है तो आपका हीमोग्लोबिन का स्तर कम होगा| एनीमिया के लक्षण जैसे थकान महसूस होना, कमजोरी, या सांस लेने में तकलीफ आदि इसलिए होते हैं क्योंकि आपके अंगों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है जितनी उन्हें काम करने के लिए आवश्यकता होती है|

छोटे बच्चों, महिलाओं और जिन्हें कोई पुरानी बीमारी है, ऐसे लोगों में एनीमिया (रक्ताल्पता) होने की संभावना अधिक होती है| एनीमिया कई प्रकार के होते हैं, जिनमें से प्रत्येक का एक अलग कारण और उपचार होता है| कुछ प्रकार के एनीमिया ज्यादा चिंता के विषय नहीं होते, जबकि इसके कुछ प्रकार किसी गंभीर अंतर्निहित बीमारी को दर्शाते हैं|

एनीमिया (खून की कमी) आमतौर पर लाल रक्त कोशिकाओं (RBCs) के उत्पादन में कमी, या लाल रक्त कोशिकाओं के विनाश में वृद्धि, या रक्तस्राव के कारण होता है| विटामिन बी 12 की कमी, आयरन की कमी, अस्थि मज्जा के कई अर्बुद (neoplasms), और थैलेसीमिया लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) के उत्पादन में कमी का कारण बन सकते हैं| सिकल सेल एनीमिया जैसी आनुवंशिक स्थितियां, कुछ ऑटोइम्यून बीमारियां, और मलेरिया जैसे संक्रमण, लाल रक्त कोशिकाओं के अधिक मात्रा में टूटने का कारण बन सकती हैं| रक्तस्राव के कारणों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रक्तस्राव (gastrointestinal bleeding) और अभिघात (trauma) शामिल हैं|

एक रिपोर्ट के अनुसार एनीमिया (रक्ताल्पता) की स्थिति विश्व की लगभग एक तिहाई आबादी को प्रभावित कर रही है| यह 2025 के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के छह वैश्विक पोषण लक्ष्यों (global nutrition targets) में से एक है|

एनीमिया (रक्ताल्पता) के विभिन्न प्रकार क्या हैं? – What Are The Different Types Of Anemia in Hindi?

दोस्तों, एनीमिया (रक्ताल्पता) के 400 से भी ज्यादा प्रकार होते हैं और इन्हें तीन समूहों में बांटा गया है:

1) लाल रक्त कोशिकाओं (RBCs) के बढ़ते विनाश के कारण एनीमिया (रक्ताल्पता)

2) लाल रक्त कोशिकाओं के कम या दोषपूर्ण उत्पादन के कारण होने वाला एनीमिया (रक्ताल्पता)

3) रक्तस्राव से होने वाला एनीमिया (रक्ताल्पता)

1) लाल रक्त कोशिकाओं के विनाश में वृद्धि के कारण होने वाला एनीमिया (रक्ताल्पता) – Anemia caused by increased destruction of red blood cells in Hindi

इस स्थिति को हेमोलिटिक एनीमिया (hemolytic anemia) भी कहा जाता है|

इस स्थिति में लाल रक्त कोशिकाएं नाजुक हो जाती हैं और शरीर में यात्रा करने के तनाव को सहन नहीं कर पाती हैं, और वे फट सकती हैं|

हेमोलिटिक एनीमिया के कुछ निम्नलिखित कारण हैं:

  • आनुवंशिक स्थितियां, जैसे थ्रोम्बोटिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिक पुरपुरा (thrombotic thrombocytopenic purpura), थैलेसीमिया (thalassemia), सिकल सेल एनीमिया (sickle cell anemia)|
  • ड्रग्स, संक्रमण, सांप का जहर, आदि जो आपके शरीर पर तनाव (strain) डालते हैं|
  • गुर्दे या यकृत रोग से उत्पन्न विषाक्त पदार्थ|
  • गंभीर जलन (severe burns), ट्यूमर, कुछ रसायनों के संपर्क में रहना|
  • ल्यूपस (lupus) जैसे ऑटोइम्यून रोग (Autoimmune diseases)|

2) लाल रक्त कोशिकाओं के कम या दोषपूर्ण उत्पादन के कारण होने वाला एनीमिया (रक्ताल्पता) – Anemia caused by decreased or faulty production of red blood cells in Hindi

इस प्रकार के एनीमिया (रक्ताल्पता) में, आपका शरीर पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन नहीं कर पाता, या आपकी लाल रक्त कोशिकाएं उस तरह से काम नहीं कर पाती हैं, जैसे उन्हें करना चाहिए| यह इस कारण से हो सकता है कि आपके शरीर के पास सामान्य लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने के लिए पर्याप्त विटामिन और खनिज नहीं हैं, या आपके आरबीसी में कुछ गड़बड़ है|

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (Iron-deficiency anemia), विटामिन की कमी से होने वाला एनीमिया (vitamin deficiency anemia), अप्लास्टिक एनीमिया (aplastic anemia) आदि को इस समूह में बांटा गया है|

3) खून की कमी के कारण एनीमिया (रक्ताल्पता) – Anemia due to blood loss in Hindi

इस प्रकार का एनीमिया (रक्ताल्पता) रक्तस्राव के माध्यम से लाल रक्त कोशिकाओं की हानि के परिणामस्वरूप हो सकता है| यह लंबे समय तक धीमी गति से रक्तस्राव (जिस पर आपका ध्यान न जाए) के कारण भी हो सकता है| इसके कुछ निम्नलिखित कारण हैं:

  • आघात, या सर्जरी के बाद,
  • बवासीर, अल्सर और कैंसर जैसी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्थितियां,
  • एस्पिरिन जैसी नॉन-स्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाओं (NSAIDS) का उपयोग,
  • एक महिला का माहवारी के दौरान भारी रक्तस्राव (heavy menstrual bleeding)|

एनीमिया के सामान्य प्रकार – Common Types Of Anemia in Hindi

दोस्तों अब मैं आपको एनीमिया के कुछ सामान्य प्रकार के बारे में बताने जा रहा हूँ:

1) अप्लास्टिक एनीमिया – Aplastic Anemia in Hindi

यह एक दुर्लभ स्थिति है जो तब होती है जब आपकी अस्थि मज्जा (bone marrow) पर्याप्त नई रक्त कोशिकाओं का उत्पादन बंद कर देती है| ज्यादातर आपका अस्थि मज्जा तीनों कोशिकाओं (यानी लाल रक्त कोशिकाओं, सफेद रक्त कोशिकाओं और प्लेटलेट्स) का उत्पादन बंद कर देता है, लेकिन कभी-कभी यह केवल एक प्रकार की कोशिकाओं का उत्पादन बंद कर देता है|

अप्लास्टिक एनीमिया अचानक या धीरे-धीरे विकसित हो सकता है| यह आपको संक्रमण तथा अनियंत्रित रक्तस्राव के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकता है|

अप्लास्टिक एनीमिया किसी भी उम्र में विकसित हो सकता है, लेकिन इसके होने की संभावना युवाओं, और बुजुर्गों में अधिक होती है| यह प्रतिरक्षा प्रणाली, आनुवंशिकता, अथवा दवाओं, रसायनों या विकिरण के संपर्क में आने के कारण हो सकता है|

लेकिन लगभग आधे मामलों में, इसका कारण अज्ञात रहता है और इसे इडियोपैथिक अप्लास्टिक एनीमिया (idiopathic aplastic anemia) के रूप में जाना जाता है|

अप्लास्टिक एनीमिया दो प्रकार का होता है:

a) एक्वायर्ड अप्लास्टिक एनीमिया – Acquired Aplastic Anemia in Hindi

यह एनीमिया वयस्कों में आम है| शोधकर्ताओं के अनुसार यह प्रतिरक्षा प्रणाली में कुछ समस्या के कारण होता है, जो ज्यादातर जहरीले रसायनों, कुछ दवाओं, या कीमोथेरेपी आदि के कारण होती है|

b) इनहेरिटेड अप्लास्टिक एनीमिया – Inherited Aplastic Anemia in Hindi

यह एनीमिया युवा वयस्कों और बच्चों में आम है, और जीन दोष (gene defects) के कारण होता है|

अस्थि मज्जा बायोप्सी (bone marrow biopsy) द्वारा ही अप्लास्टिक एनीमिया के निदान की पुष्टि की जा सकती है| लेकिन इस प्रक्रिया से पहले, रोगी के अन्य रक्त परीक्षण आमतौर पर नैदानिक सुराग (diagnostic clues) प्राप्त करने के लिए किए जाते हैं|

इन परीक्षणों में पूर्ण रक्त गणना (complete blood count), लीवर एंजाइम (liver enzymes), थायरॉइड फ़ंक्शन टेस्ट (thyroid function tests), रीनल फंक्शन टेस्ट (renal function tests), और फोलिक एसिड और विटामिन बी-12 स्तर शामिल हैं|

अस्थि मज्जा बायोप्सी (bone marrow biopsy) में, डॉक्टर आपके शरीर में कूल्हे की हड्डी जैसी बड़ी हड्डी से अस्थि मज्जा का एक छोटा सा नमूना निकालता है| फिर उस नमूने की माइक्रोस्कोप के तहत जांच की जाती है| सामान्य अस्थि मज्जा में लगभग 30-70% रक्त स्टेम कोशिकाएं होती हैं, लेकिन अप्लास्टिक एनीमिया में, इनमें से अधिकांश कोशिकाएं चली जाती हैं और उनकी जगह वसा ले लेती है|

अप्लास्टिक एनीमिया के लिए उपचार आपकी उम्र और आपकी स्थिति की गंभीरता पर निर्भर करता है| इसमें दवाएं, रक्त आधान (blood transfusions), या अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण (bone marrow transplantation) शामिल हैं| इम्यूनोसप्रेसिव ड्रग्स (immunosuppressive drugs), कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (corticosteroids), साइक्लोस्पोरिन, और कीमोथेरेपी (chemotherapy) जैसी दवाओं का उपयोग इसके उपचार में किया जाता है; और इसे अप्लास्टिक एनीमिया के लिए प्रथम-पंक्ति उपचार (first-line treatment) माना जाता है|

2) आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (खून की कमी) – Iron Deficiency Anemia in Hindi

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (Iron Deficiency Anemia) सबसे आम है| यह एक ऐसी स्थिति है जब आपके शरीर में पर्याप्त आयरन नहीं होता है| चूंकि हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आयरन की आवश्यकता होती है, इसलिए, अपर्याप्त आयरन के साथ, आपका शरीर पर्याप्त हीमोग्लोबिन (लाल रक्त कोशिकाओं में ऑक्सीजन ले जाने वाला प्रोटीन) का उत्पादन नहीं कर सकता है|

इसके कारण, आपके रक्त में पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होती है और आपको सांस चढना, कमजोर और थका हुआ महसूस करना जैसी दिक्कतें होती हैं|

आयरन की कमी वाले एनीमिया से ग्रस्त बच्चों में वृद्धि और विकास संबंधी समस्याएं हो सकती हैं|

यह आम तौर पर अपर्याप्त आहार सेवन, भोजन से आयरन के कम अवशोषण, परजीवी कीड़े (parasitic worms), या रक्तस्राव के कारण होता है|

आयरन से भरपूर आहार या आयरन सप्लीमेंट का सेवन करके इस एनीमिया (रक्ताल्पता) को ठीक किया जा सकता है| गंभीर मामलों में आयरन के इंजेक्शन (Iron injections), या रक्त आधान की आवश्यकता होती है|

3) थैलेसीमिया – Thalassemia in Hindi

थैलेसीमिया एक इनहेरिटेड (विरासत में मिला) रक्त विकार (inherited blood disorder) है जिसके कारण आपके शरीर में सामान्य से कम हीमोग्लोबिन नामक ऑक्सीजन ले जाने वाला प्रोटीन होता है|

यह एक इनहेरिटेड रक्त विकार है, जिसका अर्थ है कि आपके माता-पिता में से कम से कम एक इस विकार का वाहक है| यह एनीमिया का कारण बनता है और इस प्रकार आप थके थके महसूस करते हैं|

यदि आपको हल्का (mild) थैलेसीमिया है, तो आपको किसी उपचार की आवश्यकता नहीं होती है| लेकिन इसके अधिक गंभीर रूपों में नियमित रक्त आधान की आवश्यकता हो सकती है|

थैलेसीमिया (thalassemia) तीन प्रकार का होता है:

a) अल्फा थैलेसीमिया (Alpha thalassemia):

इसमें उपप्रकार हीमोग्लोबिन एच (hemoglobin H) और हाइड्रोप्स फेटालिस (hydrops fetalis) शामिल हैं|

b) बीटा थैलेसीमिया (Beta thalassemia):

इसमें उपप्रकार मेजर (major) और  इंटरमीडिया (intermedia) शामिल हैं|

c) थैलेसीमिया माइनर (Thalassemia minor)

आपके संकेत और लक्षण (signs and symptoms) थैलेसीमिया के प्रकार पर निर्भर करते हैं| रोग की शुरुआत और गंभीरता भी थैलेसीमिया के प्रकार और उपप्रकार के साथ भिन्न होती है|

थैलेसीमिया के संकेत और लक्षण हैं – Signs and symptoms of thalassemia in Hindi:

  • चेहरे की हड्डी की विकृति (Facial bone deformities)
  • थकान (fatigue)
  • धीमी वृद्धि (Slow growth)
  • पीली त्वचा (pale or yellowish skin)
  • गहरा मूत्र (dark urine)
  • पेट की सूजन (abdominal swelling)
  • दुर्बलता (weakness)

थैलेसीमिया का निदान (Diagnosis of thalassemia in Hindi)

थैलेसीमिया का निदान रक्त के नमूने द्वारा किया जा सकता है, जिसे एनीमिया और असामान्य हीमोग्लोबिन के लिए परीक्षण किया जाता है| माइक्रोस्कोप के तहत रक्त का नमूना लाल रक्त कोशिकाओं का असामान्य रूप (थैलेसीमिया का संकेत) दिखाएगा|

निदान की पुष्टि करने के लिए हीमोग्लोबिन वैद्युतकणसंचलन (hemoglobin electrophoresis) नामक एक परीक्षण किया जाता है| हीमोग्लोबिन वैद्युतकणसंचलन का उपयोग सामान्य और असामान्य हीमोग्लोबिन की पहचान करने और उनकी मात्रा का आकलन करने के लिए किया जाता है|

थैलेसीमिया का उपचार (Treatment for thalassemia in Hindi)

थैलेसीमिया का उपचार इसके प्रकार और गंभीरता पर निर्भर करता है| थैलेसीमिया के हल्के रूपों को किसी उपचार की आवश्यकता नहीं होती है|

मध्यम से गंभीर रूपों का इलाज बार-बार रक्त आधान, दवाओं, अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण द्वारा किया जाता है, और कभी-कभी प्लीहा (spleen) या पित्ताशय की थैली (gall bladder) को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है|

4) सिकल सेल एनीमिया (दरांती कोशिका अरक्तता) – Sickle Cell Anemia in Hindi

सिकल सेल एनीमिया (SCA) एक वंशानुगत लाल रक्त कोशिका विकार है, जो सिकल सेल रोग (sickle cell disease) नामक विकारों के समूह में से एक है|

सामान्य लाल रक्त कोशिकाएं डिस्क के आकार की होती हैं, और इनमें छोटी से छोटी रक्त वाहिकाओं के माध्यम से भी यात्रा करने का लचीलापन होता है| लेकिन इस रोग के कारण लाल रक्त कोशिकाएं कठोर और हंसिया के आकार (sickle-like) की या अर्धचंद्राकार हो जाती हैं| ये चिपचिपी और कठोर लाल रक्त कोशिकाएं छोटी वाहिकाओं में फंस जाती हैं और इस प्रकार शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त के प्रवाह को अवरुद्ध कर देती हैं| इससे दर्द और ऊतक क्षति हो सकती है|

सिकल सेल एनीमिया के संकेत और लक्षण (signs and symptoms of sickle cell anemia)

सिकल सेल एनीमिया के संकेत और लक्षण आमतौर पर लगभग 5 से 6 महीने की उम्र में दिखाई देते हैं| इसके लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग होते हैं और समय के साथ बदलते रहते हैं|

दरांती कोशिका अरक्तता अथवा सिकल सेल एनीमिया के संकेत और लक्षण हैं (Signs and symptoms of sickle cell anemia in Hindi):

  • दर्द के आवधिक एपिसोड, जिसे दर्द संकट या सिकल सेल संकट (sickle cell crisis) भी कहा जाता है,
  • बार-बार संक्रमण
  • हाथ पैरों में सूजन और दर्द
  • विलंबित विकास या यौवन (delayed growth or puberty)
  • अत्यधिक थकान
  • नज़रों की समस्या (vision problems)

सिकल सेल एनीमिया का निदान (diagnosis of sickle cell anemia in Hindi)

दरांती कोशिका अरक्तता अथवा सिकल सेल एनीमिया का निदान सिकल सेल घुलनशीलता परीक्षण (sickle cell solubility test), हीमोग्लोबिन वैद्युतकणसंचलन और उच्च प्रदर्शन तरल क्रोमैटोग्राफी (high-performance liquid chromatography) द्वारा किया जा सकता है| दुर्लभ मामलों में आनुवंशिक परीक्षण (genetic testing) भी किया जाता है|

सिकल सेल एनीमिया का उपचार (Treatment of sickle cell anemia in Hindi)

सिकल सेल एनीमिया का उपचार आमतौर पर लक्षणों से राहत और जटिलताओं को रोकने के उद्देश्य से किया जाता है| इसके उपचार में रक्त आधान और दवाएं शामिल होती हैं| स्टेम सेल प्रत्यारोपण (stem cell transplant) कुछ बच्चों और किशोरों में बीमारी का इलाज कर सकता है|

इसके उपचार में हाइड्रोक्सीयूरिया (hydroxyurea), एल-ग्लूटामाइन ओरल पाउडर (L-glutamine oral powder), वोक्सेलॉटर (voxelotor), क्रिजानलिज़ुमैब (crizanlizumab) जैसी दवाओं का उपयोग किया जाता है|

5) विटामिन की कमी से होने वाला एनीमिया – Vitamin Deficiency Anemia in Hindi

विटामिन की कमी से होने वाला एनीमिया विटामिन बी-12 (vitamin B-12), फोलेट (विटामिन बी-9) या विटामिन सी की कमी के कारण होता है| यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होती है|

यह तब हो सकता है जब आपको अपने आहार से इन विटामिनों की पर्याप्त मात्रा न मिले। या यह तब हो सकता है जब आपका शरीर इन विटामिन्स को ठीक से अवशोषित या संसाधित नहीं कर पाता|

विटामिन की कमी से होने वाले एनीमिया के संकेत और लक्षण – Signs and symptoms of vitamin deficiency anemia in Hindi

  • चक्कर आना
  • थकान
  • पीली त्वचा (pale or yellowish skin)
  • मानसिक भ्रम या विस्मृति (mental confusion or forgetfulness)
  • दिल की अनियमित धड़कन (Irregular heartbeats)
  • हाथों और पैरों में सुन्नता या झुनझुनी (Numbness or tingling in your hands and feet)
  • वजन घटना
  • मांसपेशी में कमज़ोरी (muscle weakness)
  • सांस फूलना (shortness of breath)

i) फोलेट की कमी से एनीमिया – Folate Deficiency Anemia in Hindi

फोलेट को विटामिन बी-9 के रूप में भी जाना जाता है, और यह आपके शरीर को लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद करता है| हरी पत्तेदार सब्जियों और खट्टे फलों में फोलेट मौजूद होता है| यदि आपके आहार में फोलेट की लगातार कमी रहती है, तो आपको फोलेट की कमी हो सकती है| इसकी कमी तब भी हो सकती है जब आपको कोई ऐसी बीमारी हो जो आपके शरीर को फोलेट को अवशोषित या संसाधित करने से रोकती है|

फोलेट की कमी से एनीमिया हो सकता है, जिसे फोलेट की कमी वाले एनीमिया के रूप में जाना जाता है|

गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं या गुर्दे की बीमारी के लिए डायलिसिस कराने वाले लोगों में फोलेट की मांग बढ़ जाती है| इस बढ़ी हुई मांग को पूरा करने में विफलता के परिणामस्वरूप फोलेट की कमी भी हो सकती है|

फोलेट की कमी वाले एनीमिया का निदान रक्त परीक्षण द्वारा किया जाता है|

फोलेट की कमी से होने वाले एनीमिया का उपचार आहार में इसके सेवन को बढ़ाकर या फोलेट या फोलिक एसिड के सप्लीमेंट्स (जैसे गोली) लेकर किया जाता है|

ii) विटामिन बी -12 की कमी से होने वाला एनीमिया – Vitamin B-12 Deficiency Anemia in Hindi

लगातार विटामिन बी-12 की कमी वाले आहार के सेवन से विटामिन बी-12 की कमी हो सकती है| विटामिन बी-12 मुख्य रूप से दूध, अंडे और मांस में मौजूद होता है|

इसकी कमी से विटामिन बी -12 की कमी से होने वाला एनीमिया हो सकता है, जिसमें विटामिन बी -12 की कमी के कारण आपके शरीर में पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं|

कभी-कभी आपके शरीर में आंतरिक कारक (intrinsic factor) नामक पदार्थ की कमी होती है| यह आपके पेट द्वारा बनाया गया प्रोटीन है जो आपके शरीर को विटामिन बी-12 को अवशोषित करने में मदद करता है|

आंतरिक कारक की कमी तब हो सकती है जब आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से आपके पेट की कोशिकाओं पर हमला करती है जो इसके उत्पादन के लिए जिम्मेदार होती हैं। इस प्रकार के विटामिन बी -12 की कमी वाले एनीमिया को घातक एनीमिया (pernicious anemia) के रूप में जाना जाता है|

आंतरिक कारक की कमी के अलावा, यदि आपकी छोटी आंत विटामिन बी -12 को अवशोषित करने में असमर्थ है, तो भी विटामिन बी-12 की कमी से होने वाला एनीमिया हो सकता है। इसके निम्नलिखित कारण हो सकते हैं:

  • आपकी छोटी आंत में असामान्य रूप से जीवाणुओं की वृद्धि हो रही हो
  • आपके पेट के उस हिस्से को निकालने के लिए आपकी सर्जरी हुई हो, जहां आंतरिक कारक (intrinsic factor) बनता है
  • आपकी आंत के कुछ हिस्से को निकालने के लिए आपकी सर्जरी हुई हो
  • आप टैपवार्म (tapeworm) से संक्रमित हो गए हों
  • आप कुछ दवाएं ले रहे हैं, जैसे कि जब्ती-रोधी दवाएं (anti-seizure drugs), या एंटीबायोटिक्स (antibiotics)
  • आपको एक ऐसी बीमारी हुई हो, जो आपकी छोटी आंतों में पोषक तत्वों के अवशोषण में बाधा डालती हो, जैसे कि सीलिएक रोग (celiac disease), या क्रोहन रोग (crohn’s disease)|
विटामिन बी-12 की कमी से होने वाले एनीमिया के संकेत और लक्षण – Signs and symptoms of vitamin B-12 deficiency anemia in Hindi:
  • थकान
  • चक्कर आना
  • पीली त्वचा
  • चिड़चिड़ापन महसूस करना (feeling irritable)
  • सांस फूलना
  • भूख में कमी
  • सूजी हुई तथा लाल जीभ, या मसूड़ों से खून आना
  • हाथ और पैर का सुन्न होना और झुनझुनी होना (numbness and tingling of hands and feet)
विटामिन बी-12 की कमी का निदान निम्न परीक्षणों द्वारा किया जा सकता है – Diagnosis of vitamin B-12 deficiency in Hindi:
  • पूर्ण रक्त गणना अथवा कम्पलीट ब्लड काउंट (Complete blood count – CBC)
  • विटामिन बी-12 स्तर (Vitamin B-12 level)
  • मेथिलमेलोनिक एसिड परीक्षण (methylmalonic acid test)
  • आंतरिक कारक एंटीबॉडी परीक्षण (intrinsic factor antibodies test)
  • शिलिंग परीक्षण (schilling test)
विटामिन बी-12 की कमी से होने वाले एनीमिया का उपचार – Treatment of vitamin B-12 deficiency anemia in Hindi

विटामिन बी-12 की कमी से होने वाले एनीमिया का इलाज विटामिन बी-12 की कमी के कारण पर निर्भर करता है| उपचार का लक्ष्य इसके स्तर को बढ़ाना होता है|

इसका उपचार आमतौर पर आहार में विटामिन बी-12 का सेवन, और विटामिन बी -12 के सप्लीमेंट्स के साथ किया जाता है| अधिकांश लोग मौखिक विटामिन बी -12 की खुराक के लिए बहुत अच्छी प्रतिक्रिया (response) देते हैं, लेकिन विटामिन बी -12 के इंजेक्शन उन लोगों को दिए जाते हैं जो मौखिक सप्लीमेंट्स के लिए अच्छी प्रतिक्रिया (response) नहीं देते हैं या जिनमें विटामिन बी -12 का स्तर बहुत कम है|

iii) विटामिन सी की कमी से होने वाला एनीमिया – Vitamin C Deficiency Anemia in Hindi

यदि आपको अपने आहार से पर्याप्त विटामिन सी (vitamin C) नहीं मिलता है तो आपमें विटामिन सी की कमी विकसित हो सकती है| इसकी कमी तब भी हो सकती है जब कोई चीज आपके शरीर की भोजन से विटामिन सी को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर दे|

विटामिन सी की कमी निम्नलिखित कारणों से भी हो सकती है, जो शरीर की विटामिन सी को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर देते हैं:

  • कुछ पुरानी बीमारियां, जैसे कि क्रोनिक किडनी डिजीज (chronic kidney disease) या कैंसर।
  • अत्यधिक शराब का सेवन या अवैध ड्रग्स का सेवन
  • धूम्रपान
विटामिन सी की कमी से होने वाले एनीमिया का निदान – Diagnosis of vitamin C deficiency anemia in Hindi

दोस्तो, विटामिन सी की कमी से होने वाले एनीमिया का निदान रक्त परीक्षण जैसे पूर्ण रक्त गणना, विटामिन सी स्तर परीक्षण (vitamin C levels tests) द्वारा किया जा सकता है|

विटामिन सी की कमी से होने वाले एनीमिया का उपचार Treatment of vitamin C deficiency anemia in Hindi

विटामिन सी की कमी से होने वाले एनीमिया का इलाज मुंह से या इंजेक्शन द्वारा विटामिन सी के सप्लीमेंट्स की खुराक देकर किया जा सकता है|

एनीमिया के क्या कारण हैं? – What Are The Causes Of Anemia in Hindi?

एनीमिया तब होता है जब आपके रक्त में पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं|

एनीमिया हो सकता है अगर:

  • आपका शरीर लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट कर देता है
  • आपके शरीर में खून बह रहा है जिसके कारण आप लाल रक्त कोशिकाओं को अधिक तेज़ी से खो देते हैं
  • आपका शरीर पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण नहीं करता है

विभिन्न प्रकार के एनीमिया और उनके कारण – Different types of anemia and their causes in Hindi

विभिन्न प्रकार के एनीमिया विभिन्न कारणों से होते हैं| दोस्तो, नीचे मैं आपको एनीमिया के कुछ सामान्य प्रकार और उनके कारणों के बारे में बता रहा हूं:

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (Iron deficiency anemia)

यह एनीमिया का सबसे आम प्रकार है और यह आपके शरीर में आयरन (iron) की कमी के कारण होता है| आपके अस्थि मज्जा को हीमोग्लोबिन बनाने के लिए एक निश्चित मात्रा में आयरन की आवश्यकता होती है| इस प्रकार आयरन के बिना, आपका शरीर लाल रक्त कोशिकाओं के लिए पर्याप्त हीमोग्लोबिन का उत्पादन करने में सक्षम नहीं होता है|

अप्लास्टिक एनीमिया (Aplastic anemia)

यह दुर्लभ और जानलेवा एनीमिया है जो जीन दोष (इनहेरिटेड अप्लास्टिक एनीमिया), या आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में किसी समस्या के कारण हो सकता है जो ज्यादातर जहरीले रसायनों, कुछ दवाओं आदि (एक्वायर्ड अप्लास्टिक एनीमिया) से उत्पन्न होता है|

विटामिन की कमी से होने वाला एनीमिया (Vitamin deficiency anemia)

पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए आपके शरीर को आयरन के अलावा फोलेट (folate), विटामिन बी-12 और विटामिन सी की भी आवश्यकता होती है|

यदि आपके आहार में फोलेट की लगातार कमी है, या यदि आपको कोई ऐसी बीमारी है जो आपके शरीर को फोलेट को अवशोषित या संसाधित करने से रोकती है, तो आप फोलेट की कमी वाले एनीमिया से ग्रस्त हो सकते हैं|

यदि आपके आहार में लगातार विटामिन बी-12 की कमी है, या आपकी छोटी आंत विटामिन बी-12 को अवशोषित करने में असमर्थ है, तो यह विटामिन बी-12 की कमी वाले एनीमिया का कारण बन सकता है|

विटामिन सी की कमी से एनीमिया तब होता है जब आपको अपने आहार से पर्याप्त विटामिन सी नहीं मिलता है, या यदि कोई चीज आपके शरीर की विटामिन सी को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर देती है|

दरांती कोशिका अरक्तता (सिकल सेल एनीमिया – Sickle cell anemia)

यह एक वंशानुगत लाल रक्त विकार है, जिसमें लाल रक्त कोशिकाएं कठोर और सिकल जैसी (अर्धचंद्राकार) आकार की हो जाती हैं|

ये अनियमित (irregular) आरबीसी समय से पहले मर जाते हैं और इस प्रकार लाल रक्त कोशिकाओं की कमी हो जाती है|

थैलेसीमिया (Thalassemia)

यह एक वंशानुगत रक्त विकार है जिसके कारण आपके शरीर में सामान्य से कम हीमोग्लोबिन होता है| यह विकार लाल रक्त कोशिकाओं के अत्यधिक विनाश का कारण बनता है जिसके परिणामस्वरूप एनीमिया होता है|

एनीमिया (रक्ताल्पता या खून की कमी) के संकेत और लक्षण क्या हैं? – What Are The Signs And Symptoms Of Anemia in Hindi?

एनीमिया (रक्ताल्पता या खून की कमी) के संकेत और लक्षण एनीमिया के कारण पर निर्भर करते हैं| जैसे, यदि एनीमिया एक पुरानी बीमारी के कारण होता है, तो वह बीमारी इसके लक्षणों को छुपा सकती है और एनीमिया को किसी अन्य बीमारी के परीक्षणों द्वारा देखा जा सकता है|

आपके एनीमिया के अंतर्निहित कारण के आधार पर, आपको कोई संकेत और लक्षण नहीं भी हो सकते हैं या शायद इतने हल्के होते हैं कि आप उन्हें नोटिस भी नहीं कर पाते| लेकिन जैसे-जैसे आपकी रक्त कोशिकाएं कम होती जाती हैं, संकेत और लक्षण विकसित होते जाते हैं|

एनीमिया (रक्ताल्पता) के संकेत और लक्षण (Signs and symptoms of anemia in Hindi)

  • पीली त्वचा
  • दुर्बलता या कमजोरी
  • थकान
  • दिल की धड़कन का अनियमित होना (irregular heartbeats)
  • सिर दर्द
  • छाती में दर्द
  • चक्कर आना
  • सांस फूलना
  • ठंडे हाथ और पैर
  • जोड़ों का दर्द
  • असामान्य लालसा (unusual cravings), जैसे मिट्टी, गंदगी या बर्फ खाने की इच्छा
  • ध्यान केंद्रित करने में परेशानी (trouble concentrating)

जैसे-जैसे एनीमिया बिगड़ता जाता है, ये लक्षण भी बिगड़ते जाते हैं|

कुछ प्रकार के एनीमिया जीभ की सूजन का भी कारण बन सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप लाल, चिकनी, चमकदार और कभी-कभी दर्दनाक जीभ हो सकती है|

यदि एनीमिया गंभीर है, तो बेहोशी भी हो सकती है|

एनीमिया (रक्ताल्पता या खून की कमी) के लिए जोखिम कारक क्या हैं? – What Are The Risk Factors For Anemia in Hindi?

एनीमिया किसी भी उम्र, लिंग और जाति के लोगों में हो सकता है| लेकिन निम्नलिखित कारक आपके एनीमिया के जोखिम को बढ़ाते हैं:

कुछ विटामिन और खनिजों में कमी वाला आहार (Diet deficient in certain vitamins and minerals)

लगातार विटामिन बी-12, फोलेट, या आयरन की कमी वाले आहार से आपको आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया या विटामिन की कमी से होने वाले एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है|

जीर्ण रोग (Chronic conditions)

मधुमेह, गुर्दे का खराब होना (kidney failure), कैंसर जैसे जीर्ण रोग एनीमिया के आपके जोखिम को बढ़ाते हैं|

माहवारी (Menstruation)

मासिक धर्म महिलाओं में लाल रक्त कोशिकाओं के नुकसान का कारण बनता है| इस प्रकार प्रसव धारण करने की उम्र वाली महिलाओं (women of childbearing age) में पुरुषों और पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं (postmenopausal women) की तुलना में आयरन की कमी वाले एनीमिया का अधिक खतरा होता है|

आंतों के विकार (Intestinal disorders)

सीलिएक रोग (Celiac disease) या क्रोहन रोग (Crohn’s disease) जैसे आंतों के विकार, जो आपकी छोटी आंत में पोषक तत्वों के अवशोषण को बाधित करते हैं, एनीमिया के खतरे को बढ़ाते हैं|

गर्भावस्था (Pregnancy)

गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के विकसित होने के कारण शरीर में फोलिक एसिड और आयरन की अधिक आवश्यकता होती है| इसलिए, यदि आप गर्भवती हैं और इन पोषक तत्वों की खुराक नहीं ले रही हैं, तो आपको एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है|

परिवार का इतिहास (Family history)

यदि आपके परिवार में वंशानुगत रक्ताल्पता (एनीमिया) का इतिहास है, जैसे सिकल सेल एनीमिया, तो आपको भी इस स्थिति का खतरा बढ़ जाता है|

उम्र (Age)

यदि आपकी उम्र 65 वर्ष से अधिक है, तो आपको एनीमिया होने का खतरा बढ़ जाता है|

रक्त की हानि (Blood loss)

बवासीर, अल्सर, या कैंसर जैसी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्थितियों के कारण रक्त की हानि; या आघात या सर्जरी के कारण होने वाली रक्त की हानि (blood loss) से एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है|

अन्य कारक (Other factors)

शराबके सेवन, कुछ दवाओं के उपयोग, जहरीले रसायनों के संपर्क में आने या ऑटोइम्यून डिसऑर्डर (autoimmune disorder) से एनीमिया होने का खतरा बढ़ जाता है|

एनीमिया (रक्ताल्पता या खून की कमी) का निदान कैसे किया जाता है? – How Is Anemia Diagnosed in Hindi?

एनीमिया (रक्ताल्पता) का निदान करने के लिए, आपका डॉक्टर आपसे आपकी हेल्थ हिस्ट्री (health history) और आपके परिवार की हेल्थ हिस्ट्री (family health history) के बारे में पूछ सकता है, आपका शारीरिक परीक्षण कर सकता है और रक्त परीक्षण की सलाह दे सकता है|

आपकी हेल्थ हिस्ट्री (health history), आपके परिवार की हेल्थ हिस्ट्री (family health history), लक्षण, आहार, शराब का सेवन, धूम्रपान की आदतें, आपके द्वारा ली जाने वाली दवाओं के बारे में आपके विस्तृत उत्तर डॉक्टर को एनीमिया के निदान में मदद कर सकते हैं|

आपका डॉक्टर निम्नलिखित रक्त परीक्षणों (blood tests) की सलाह दे सकता है, ये निदान की पुष्टि करेंगे और अंतर्निहित बीमारी का पता लगाने में भी मदद करेंगे| इन परीक्षणों में शामिल हैं:

पूर्ण रक्त गणना – Complete blood count (CBC)

यह परीक्षण आपके रक्त के नमूने में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या, आकार, और उनमें हीमोग्लोबिन की मात्रा की जानकारी देता है| एनीमिया का निदान करने के लिए, आपका डॉक्टर आपके हेमाटोक्रिट (hematocrit – आपके रक्त में निहित लाल रक्त कोशिकाओं के स्तर), और इस परीक्षण के हीमोग्लोबिन परिणामों को भी देखेगा|

आपकी लाल रक्त कोशिकाओं की आकृति और माप को निर्धारित करने के लिए रक्त परीक्षण (A blood test to determine the shape and size of your red blood cells)

इस परीक्षण में असामान्य आकृति और माप (shape and size) के लिए आपकी लाल रक्त कोशिकाओं की जांच की जा सकती है|

सीरम आयरन टेस्ट (Serum iron test)

यह परीक्षण यह पता लगाने के लिए किया जाता है कि क्या आयरन की कमी एनीमिया का कारण है|

फेरिटिन टेस्ट (Ferritin test)

सीरम फेरिटिन स्तर आपके शरीर के आयरन (लौह) भंडार की जानकारी देता है|

विटामिन बी-12 टेस्ट (Vitamin B-12 test)

यह परीक्षण आपके विटामिन बी -12 के स्तर को इंगित करता है और आपके डॉक्टर को यह तय करने में मदद करता है कि क्या वे बहुत कम हैं|

फोलिक एसिड टेस्ट (Folic acid test)

यह परीक्षण आपके शरीर में सीरम फोलेट के स्तर की जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है|

गुप्त रक्त के लिए मल परीक्षण या फीकल ओकल्ट ब्लड टेस्ट (Stool examination for the occult blood)

यह परीक्षण यह देखने के लिए किया जाता है कि आपके मल में रक्त मौजूद है या नहीं| अगर आपके मल में खून मौजूद है तो इसका मतलब है कि आपके गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में कहीं खून बह रहा है| अल्सरेटिव कोलाइटिस, कोलन कैंसर या पेट के अल्सर के कारण मल में खून आ सकता है|

अतिरिक्त नैदानिक परीक्षण (Additional diagnostic tests)

यदि आप में एनीमिया की पुष्टि होती है, तो आपका डॉक्टर एनीमिया के कारण को निर्धारित करने के लिए आपको कुछ अतिरिक्त नैदानिक परीक्षणों की सलाह दे सकता है|

आपका डॉक्टर आपको अतिरिक्त परीक्षणों की सलाह दे सकता है जैसे:

  • आपके पेट का सीटी स्कैन (CT scan of your abdomen)
  • एक बेरियम एनीमा (barium enema)
  • छाती का एक्स-रे (Chest X-ray)
  • कभी-कभी आपका डॉक्टर आपके रक्ताल्पता के कारण का निदान करने के लिए आपके अस्थि मज्जा के एक नमूने के अध्ययन की भी सलाह दे सकता है|

एनीमिया (रक्ताल्पता या खून की कमी) का इलाज क्या है? – What Is The Treatment Of Anemia in Hindi?

आपके एनीमिया का उपचार (इलाज) आपके एनीमिया के कारण पर निर्भर करता है|

एनीमिया के उपचार का उद्देश्य लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि करना है, जिसके परिणामस्वरूप रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ जाती है|

दोस्तों, नीचे मैं कुछ सामान्य प्रकार के एनीमिया (रक्ताल्पता) के उपचार के बारे में बता रहा हूँ:

आयरन, फोलेट या विटामिन बी-12 की कमी से होने वाले एनीमिया का इलाज इन पोषक तत्वों के पूरक आहार से किया जाता है| कुछ मामलों में, यदि आपकी छोटी आंत विटामिन बी-12 को अवशोषित करने में असमर्थ है, तो विटामिन बी-12 के इंजेक्शन की आवश्यकता होती है| आयरन के इंजेक्शन (पैरेंट्रल आयरन) का उपयोग उन मामलों में भी किया जाता है जहां मौखिक आयरन अप्रभावी साबित होता है, या जहां आयरन का अवशोषण बाधित होता है|

आपका डॉक्टर इस तरह के एनीमिया को दोबारा होने से रोकने के लिए इन सभी पोषक तत्वों से युक्त आहार भी लिख सकता है|

यदि आपको अप्लास्टिक एनीमिया है, तो आपको दवाओं (जैसे इम्यूनोसप्रेसिव ड्रग्स, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स), रक्त आधान या अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण की आवश्यकता हो सकती है|

यदि आपका एनीमिया रक्तस्राव के कारण होता है, तो रक्तस्राव के कारण को खोजने और ठीक करने के लिए आपकी सर्जरी हो सकती है|

यदि आपको हेमोलिटिक एनीमिया है तो आपको उन दवाओं की आवश्यकता हो सकती है, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बाधित कर सकती हैं|

यदि आपको सिकल सेल एनीमिया है, तो आपको दर्द से राहत देने वाली दवाओं, एंटीबायोटिक दवाओं, या रक्त आधान की आवश्यकता हो सकती है| सिकल सेल एनीमिया के उपचार में हाइड्रोक्सीयूरिया (hydroxyurea), एल-ग्लूटामाइन ओरल पाउडर (L-glutamine oral powder), वोक्सेलॉटर (voxelotor), क्रिज़नलिज़ुमैब (crizanlizumab) जैसी दवाओं का भी उपयोग किया जाता है|

थैलेसीमिया के हल्के रूपों को किसी उपचार की आवश्यकता नहीं होती है| लेकिन यदि आपका मामला गंभीर है, तो आपका बार-बार रक्त आधान, दवाओं, और अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण द्वारा इलाज किया जा सकता है; और कभी-कभी प्लीहा या पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है|

कभी-कभी, यदि आपका एनीमिया गंभीर है, तो आपका डॉक्टर अस्थि मज्जा में लाल रक्त कोशिका के उत्पादन को बढ़ाने के लिए एरिथ्रोपोइटिन इंजेक्शन (erythropoietin injections) का उपयोग कर सकता है|

कुछ मामलों में, जहां हीमोग्लोबिन बहुत कम होता है, वहां रक्त आधान (blood transfusion) की आवश्यकता हो सकती है|

एनीमिया (रक्ताल्पता) वाले व्यक्ति के लिए पूर्वानुमान क्या है? What Is The Prognosis For A Person With Anemia in Hindi?

एनीमिया का आमतौर पर बहुत अच्छा पूर्वानुमान होता है और कई मामलों में इसका इलाज किया जा सकता है| कभी-कभी, केवल आहार में बदलाव करके एनीमिया से पीड़ित व्यक्ति को ठीक किया जा सकता है| परन्तु कुछ प्रकार के एनीमिया उपचार के बिना जीवन के लिए खतरा हो सकते हैं|

लेकिन समग्र रोग का पूर्वानुमान एनीमिया के अंतर्निहित कारण, एनीमिया की गंभीरता और व्यक्ति के समग्र स्वास्थ्य पर निर्भर करता है|

सारांश – Summary in Hindi

एनीमिया (रक्ताल्पता) होता है जब रक्त में स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) या हीमोग्लोबिन की कुल मात्रा में कमी होती है| यह शरीर के महत्वपूर्ण ऊतकों और अंगों को ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी का कारण बनता है और पीली त्वचा, थकान, सांस फूलना और सीने में दर्द जैसे लक्षण पैदा करता है|

एनीमिया के 400 से अधिक प्रकार हैं| यह लाल रक्त कोशिकाओं के विनाश में वृद्धि, लाल रक्त कोशिकाओं के कम या दोषपूर्ण उत्पादन, या रक्तस्राव (अर्थात रक्त की हानि) के कारण हो सकता है|

एक डॉक्टर सीबीसी, सीरम आयरन टेस्ट, फेरिटिन टेस्ट, विटामिन बी-12 टेस्ट, फोलिक एसिड टेस्ट, फीकल ओकल्ट ब्लड टेस्ट (Stool examination for the occult blood), या अस्थि मज्जा के एक नमूने के अध्ययन का उपयोग एनीमिया (रक्ताल्पता) के निदान की पुष्टि करने और इसके अंतर्निहित कारण का पता लगाने के लिए कर सकता है|

एनीमिया का उपचार एनीमिया के कारण पर निर्भर करता है| इसके उपचार में विटामिन या आयरन के सप्लीमेंट्स, दवाएं, रक्त आधान, और अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण शामिल हो सकते हैं|

हालांकि, कुछ लोगों में आहार में बदलाव करके एनीमिया को ठीक किया जा सकता है|

———————————————————-

अस्वीकरण (DISCLAIMER): इस लेख में जानकारी आपके ज्ञान के लिए दी गयी है | किसी भी उपाय / नुस्खे / दवा आदि को इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह जरूर कर लें, क्योंकि वो आपके स्वास्थ्य के बारे में ज्यादा जानता है | हमारे किसी उपाय / नुस्खे / दवा आदि के इस्तेमाल से यदि किसी को कोई नुकसान होता है, तो उसकी जिम्मेदारी हमारी नहीं होगी |


इन्हें भी पढ़ें :

1) हाई ब्लड प्रेशर (बीपी) – High Blood Pressure (BP) in Hindi

2) एनजाइना के कारण, लक्षण और इलाज – Angina in Hindi

3) एथेरोस्क्लेरोसिस के कारण, लक्षण व इलाज Atherosclerosis in Hindi


Leave a Comment